भूतिया ATM bhutiya kahani in hindi | new story

यह नई भूतिया कहानी (new bhutiya kahani) एक एटीएम और एक कालिया नामक चोर की है ,जिसमे कालिया की मृत्यु एटीएम चुराते वक्त हो जाती है।
कहानी बड़ा रोचक है।आगे की कहानी आप खुद ही पढ़ लें।

भूतिया ATM bhutiya kahani in hindi
bhutiya ATM 


एटीएम की चोरी ( hindi bhutiya kahani)


एक बार राजनगर में नया एटीएम(ATM) लगता है । एटीएम लगने से राजनगर के लोग काफी खुश होते हैं।
 लोग बातें करते हैं ------चलो अच्छा हुआ ,यहां अपने इलाके में एटीएम लग गया नहीं तो पैसे निकलवाने के लिए काफी दूर जाना पड़ता था।

दूसरा बोलता है------ सही कह रहे हो भाई , बहुत दूर जाना पड़ता था, सही में हालत खराब हो जाती थी ।

उसी गांव में कालिया नाम का चोर रहता था । कालिया अपनी तथा आसपास के गांव में छोटी मोटी चोरी करता था। उसे भी एटीएम लगने के बारे में पता चलता है तो उसकी भी नियत खराब हो जाती है।

कालिया सोचता है और कहता है---- इसे कहते हैं छप्पर फाड़ कर देना । एटीएम तो मेरे लिए ही लगा है। बस एक दिन मौका मिल जाए, फिर तो पैसा आ ही जाएगा।

फिर राते बैंकांक में और दिन स्विट्जरलैंड में।

 फिर एक रात बहुत बारिश हो रही होती है । कालिया एटीएम(ATM) में चोरी करने के इरादे से चला जाता है। कालिया एटीएम खोलने की कोशिश करने लगता है लेकिन काफी कोशिश के बावजूद भी एटीएम नहीं खुलता।


kaliya chor(ATM bhutiya) 

तब कालिया कहता है ----क्या भगवान ? यह तो वही बात कर दी --हाथ तो आया पर मुह ना लगाया।

एटीएम के आस पास कोई नहीं है और मेरे जैसा चोर भी एटीएम नहीं खोल पा रहा । लेकिन आज तो यह एटीएम खुलेगा। अगर एटीएम नहीं खुला तो पूरा एटीएम ही उखाड़ कर घर ले जाऊंगा।

 उसके बाद कालिया दुबारा एटीएम खोलने में लग जाता है, लेकिन काफी कोशिशों के बाद एटीएम नहीं खुलता। इससे परेशान होकर कालिया पूरा एटीएम ही उखाड़ देता है और ले जाने लगता है।
 
एटीएम से उठाकर ठेले पर रखकर ले जाता है। और कहता है -----यह एटीएम (ATM)  क्या समझता था ? नहीं खुलेगा तो मेरा काम नहीं होगा।
 
अभी इसे घर ले जाकर काट लूंगा और सारे पैसे निकाल लूंगा।  कालिया एटीएम उठाकर ठेले पर रख कर ले जाने लगता है लेकिन बारिश होने के कारण सड़क पूरी तरह पानी से भर जाती है।
 
 जिसके कारण सड़क पर खुला हुआ गटर ,कालिया को नहीं दिखता और कालिया उस गटर में गिर जाता है । और उस गटर में गिर जाने की वजह से कालिया की मौत हो जाती है।


इसे भी पढ़ें: 1-आटो में भुत
                  2-जादुई अनार का पेड़

कालिया बना भूत (Kaliya bna bhut new hindi story)


 मरने से कालिया एक भूत(bhut) बन जाता है । इधर दिन होते ही बैंक के लोग आकर उस एटीएम को फिर से अपनी जगह लगा देते हैं ।

 एक दिन पुत्तन एटीएम में पैसे निकालने जाता है । और कहता है---  मजा आ जाएगा, कई साल बाद कंगले दोस्त ने उधार वापस किया है । अभी निकाल लूं नहीं तो ये ऐसे दोस्त हैं जो अकाउंट के पैसे भी अपने अकाउंट में डाल लें।

 लेकिन जैसे ही अपना एटीएम कार्ड एटीएम में डालता है, स्क्रीन पर कालिया का चेहरा दिखाई देने लगता है ।


पुत्तन कहता है---- अरे बाप रे ! मर गया रे ! यह क्या है ? अरे यह तो कालिया चोर का चेहरा है , लेकिन यह एटीएम स्क्रीन पर कैसे ?
तभी उसके पीछे कालिया का भूत आकर खड़ा हो जाता है। कालिया का भूत कहता है ----पुत्तन यहां पर सिर्फ कालिया का चेहरा नहीं पूरा का पूरा कालिया है।

 यह सुनकर पुत्तन पीछे पलटता है, पुत्तन कहता है---- का... का... कालिया तुम !  लेकिन तुम तो मर गए थे ना। भूत.... भूत....कालिया भूत कहता है ।

और बचाओ कालीया भूत....भूत.. कहते हुए ,वहां से भागता है लेकिन कालिया उसे पकड़ लेता है और उसी गटर में ले जाता है जहां पर गिरने की वजह से उसकी मौत हुई थी।

अगली सुबह राजन पुत्तन को ढूंढता है लेकिन पुत्तन कहीं नहीं मिलता गांव वाले यह देखकर उसके पास आ जाते हैं और एक आदमी पूछता है ----अरे क्या हुआ राजन भाई ? इतने परेशान लग रहे हो।

 अरे क्या बताऊं भाई तुझको, कल रात से ही पुत्तन गायब है। घर वालों को भी नहीं पता कि कहां है ?

वह आदमी बोलता है -----क्या आप राजन भाई आप भी किसको ढूंढ रहे हैं? एक नंबर का शराबी है वह, होगा कहीं पीके पड़ा हुआ।  शाम तक आ जाएगा ।
आप घर जाइए , उसके बाद राजू और राजन अपने घर चले जाते हैं ।

इसी तरह आए दिन कालिया का भूत एटीएम से किसी ना किसी को उठा लेता ।

कालिया भूत (bhut) कहता है -----बस इसी तरह से लोग एटीएम में आते रहे तो मेरा मकसद पूरा हो जाएगा।
भूतिया ATM bhutiya kahani in hindi
Kaliya bhut hindi story


अगले दिन एक रात राजू की बीवी कमला को पैसे की जरूरत पड़ती है।  और वह राजू को पैसा निकलवाने के लिए बोलती है-–---- सुनती हो , सांड की तरह पड़े हो कुछ काम कर लो , सुबह-सुबह दूध वाला आ जाएगा एटीएम से पैसे निकलवा लाओ देने हैं उसको ।

राजू कहता है-----सही कहते हैं लोग , शादी के बाद जिंदगी बर्बाद हो जाता है । अच्छा होता पुत्तन की जगह मैं ही गायब हो जाता।
उसके बाद राजू गुस्से से जाता है और फिर एटीएम से पैसे निकालने के लिए चला जाता है।

 लेकिन जैसे ही वह एटीएम कार्ड एटीएम मशीन(ATM machine) में डालता है मशीन हिलने लगती है ।

राजू बोलता है--- अरे मर गया रे ! यह मशीन ऐसे कैसे हील रही है ? कुछ ना कुछ गड़बड़ है ।

तभी एटीएम में से कालिया का भूत बाहर आ जाता है । वह कहता है ---आओ राजू मैं कब से तुम्हारा इंतजार कर रहा था और तुम ही कर रहा है कह रहे थे कि पुत्तन की जगह मैं ही गायब हो जाता।

तो चल तुम्हें भी पुत्तन के पास ले चलता हूं ।
राजू बोलता है ---अरे! मैंने तो गुस्से में कहा था भाई । आप तो सीरियस ही हो गए। मुझे छोड़ दो.. जाने दो.... मुझे छोड़ दो please .

 कालिया भूत (bhut) बोलता है---- तूने ही तो कहा था, अब मैं तेरी बात कैसे टाल सकता हूं।  अब तो मैं तुझे साथ लेकर ही जाऊंगा ।

इसके बाद भूत राजू को उठा लेता है और वहां से लेकर चला जाता है ।
दूसरी तरफ राजू को काफी देर तक हो जाने के बाद  , ना आने के कारण उसकी पत्नी विमला बाहर निकलती है और कहती है -----यह मनहूस आदमी पता नहीं कहां मर जाता है?  रोज का काम है । इसके बच्चे संभालो फिर इसे संभालो । किस्मत फूट गई मेरी तो ।

आने दो इसे ,आज ही इसे ठीक करती हूं । विमला राजू को बुला बुरा भला बोलते हुए जा ही रही होती है कि तभी उसे राजन मिल जाता है ।

राजन बोलता है---- अरे भाभी ! कहां जा रही हो गुस्से में? राजन ने फिर कुछ किया क्या ?

विमला बोलती है----- कहां जाऊंगी रात को ? जा रही हूं लाठ साहब को ढूंढने। 4 घंटे के निकले हैं । एटीएम से पैसे निकलवाने के लिए, अभी तक नहीं आ पाए घर वापस।

 फिर राजन और विमला राजू को ढूंढने लगते हैं और एटीएम के पास भी देखते हैं लेकिन उन्हें राजू कहीं नहीं दिखता।

 राजू की बीवी बोलती है------ अरे राजन भैया! वह कहां चले गए ? लगता है मेरी डांट से परेशान होकर,  मुझे छोड़ कर चले गए हैं।

 रोने लगती है कहती है------ अब मेरा क्या होगा ?
 राजन बोलता है---- अरे भाभी!  आप रोइए मत,  हम देखते हैं सुबह । अब इतनी रात को कहां ढूढेंगे राजू को? सुबह देखते हैं।


साधु बाबा का आगमन (darawni bhutiya kahani in hindi)

भूतिया ATM bhutiya kahani in hindi
sadhu baba

 उसके बाद राजन और विमला अपने अपने घर चले जाते हैं। अगली सुबह गांव वाले विमला के घर जमा हो जाते हैं।

एक दीनू नाम का बूढ़ा बोलता है---- अरे भैया ! इस गांव में बहुत लोग गुम हो रहा है तनिक देखना पड़ेगा । कुछ तो गड़बड़ जरूर है।

एक आदमी बोलता है----- हां , दीनू काका आप सही बोल रहे हैं । यह एटीएम और लोगों के गायब होने का कनेक्शन कुछ ना कुछ जरूर है।

 राजू की पत्नी विमला बोलती है ----प्रधान  जी कनेक्शन हो या ना हो , लेकिन हमारा राजू तो खो गया है । अब मुझे कुछ नहीं सूझ रहा कि हम कहां ढूंढे और कहां जाएं ? हमारी तो जिंदगी ही लुट गई।

प्रधान बोलता है--–- देखो भाई ,आप लोग सहमत हो तो, मेरे जान पहचान के एक साधु हैं। शायद वह बता पाए कि माजरा क्या है?

 अगले दिन सब लोग मान जाते हैं और साधु बाबा आते हैं। राजू की पत्नी बोलती है---- साधु बाबा आप आ गए , आप जल्दी बताएं राजू कहां है?

 साधु बाबा बोलता है----- चुप हो जाओ, जब राजू तेरे साथ था तो रोज उसे सताती थी। अब नहीं है तो राजू कहां है? राजू कहां है ...कह रही हो।

 मुझे ध्यान लगाने दे । उसके बाद साधु ध्यान लगाने बैठ जाता है और थोड़ी देर बाद आंखें खोलता है ।

उसके बाद सारे लोग मिलकर एटीएम के पास पहुंच जाते हैं और साधु अपने मंत्रों की ताकत  से कालिया को बुला लेते हैं ।

और बोलते है---दुष्ट बता, सब लोगों को कहां बंदी बना रखा है तूने? कहां है सब लोग ? छोड़ दे उन सब लोगों को, नहीं तो तुझे भस्म कर दूंगा।

 कालिया बोलता है-----अरे ! तुम मुझे क्यों भस्म करने की बात कर रहा है ? भस्म करना है तो उसे करो जो मुझे बंदी बनाकर रखा है, जिसकी वजह से मैं दुनिया को छोड़कर नहीं जा पा रहा।


राजन की खुली पोल (new hindi bhutiya kahani)

भूतिया ATM bhutiya kahani in hindi

rajan (ATM bhutiya kahani )


 साधु बोलता है---- तुम्हें बंदी बना रखा है! किसने?

 तभी यह सब सुनकर राजन वहां से भागने की कोशिश करता है लेकिन गांव वाले उसे पकड़ लेते हैं।
 
उधर भूत अपनी बात बताने लगता है और कहता है---- मैं कालिया चोर हूं। मेरी मौत इसी एटीएम को चोरी करते समय हो गई थी और मैं भूत बन गया था ।

लेकिन इस राजन ने कौन सा मंत्र मारा है पता नहीं। मैं इसका गुलाम बन गया हूं और मैं वही करने लगा जो यह कहता था ।

यह 30 आदमियों की बलि देना चाहता था और  वह भी एक ही दिन में, इसलिए मैं इसके कहने पर आदमी जमा करने लगा ।

राजू की पत्नी विमला बोलती है -----राजन भैया हम तुम पर कितना विश्वास करते थे और तुम्हारे कारण ही मेरा राजू गायब हुआ। तुम बहुत बुरे हो।

 साधु बोलता है----- मैं तुम्हें आजाद कर दूंगा कालिया लेकिन बदले में तुम्हें सभी बंदी  लोगों को आजाद करना होगा।

 कालिया (kaliya)भूत कहता है -------मैं आजाद कर दूंगा बाबा लेकिन मुझे बदला लेना है उस राजन से, जिसके कारण मैं अभी तक भूत बना हुआ हूं।

 इसके बाद भूत(bhut) उन सभी लोगों को आजाद कर देता है और उस दुष्ट राजन को मार देता है  और कालिया को भी मुक्ति  मिल जाती है।


यह नई भूतिया कहानी (new bhutiya kahani ) आपको कैसी लगी ? Comment करके जरूर बताइये।
इसी तरह की और भी नई नई हिंदी कहानियों को पढ़ने के लिए हमारे facebook page को like करे तथा हमारे ईमेल सब्सक्रिप्शन को on कर ले।

कहानी पढ़ने के लिये धन्यवाद !    अच्छा पढ़े-अच्छा सीखे।

*

टिप्पणी पोस्ट करें (0)
नया पेज पुराने

Billboard Ad