आलसी गधा की कहानी (hindi story new)

आज आप इस हिंदी कहानी(hindi kahaniyan) में एक व्यापारी और उसके अलसी गधे की कहानी पढ़ेंगे जिसमे गधा अपनी आलस्य के कारण ज्यादा मेहनत करता है। इस कहानी को जरूर पढ़िए।

hindi story new
इसे भी पढ़ो: 1-जंगल की परी
                   2-मिटटी में सोना


एक व्यापारी की कहानी(hindi story new)


यह कहानी है एक छोटे से व्यापारी की , जो एक गांव में रहता था। वह बाजार में अलग-अलग सामान बेचता और पैसे कमाता। व्यापारी के पास एक गधा था।
वह सामान को उस पर लादता और बाजार में बेचने जाता।  अपने गधे का बहुत ख्याल रखता था । वह जानता था कि गधा उसके व्यापार के लिए बहुत जरूरी है। इसलिए वह गधे को बहुत साफ और स्वस्थ रखता ।

उसे बहुत बढ़िया खाना देता। गधा जवान और शक्तिशाली था। वह ढेर सारी बोरिया लेकर बाजार चलता था, लेकिन गधा आलसी भी था । उसे काम करना पसंद नहीं था । वह सिर्फ बैठना, आराम करना, खाना-खाना और सोना चाहता था ।

एक दिन गधा बोलता है---- अरे मुझे काम करना पसंद नहीं है,  मुझे छुट्टियां बहुत पसंद है । शायद मालिक को छुट्टियां पसंद नहीं है , इसलिए वह मुझे कभी भी छुट्टी नहीं देते।

लेकिन गधे को यह नहीं पता था कि व्यापारी एक दिन भी छुट्टी लेगा और बाजार नहीं जाएगा तो उसे कितना नुकसान होगा और फिर पैसा नहीं तो गधे को भी खाना नहीं ।

व्यापार की मांग के अनुसार व्यापारी कई प्रकार की वस्तुएं रोज बेचता था । जैसे दाल, अनाज, सब्जियां, मसाले और फल भी । व्यापारी रोज गधे को लेकर गांव से निकल पड़ता था। बाजार पहुंचने के लिए उन्हें एक नदी पार करनी पड़ती थी ।
hindi story new

व्यापारी बहुत ही संभाल कर गधे को नदी पार कराता था।

एक दिन व्यापारी के दोस्त ने बताया कि बाजार में नमक की बहुत मांग है ।
व्यापारी बोलता है----- अरे वाह! मुझे बताने के लिए शुक्रिया दोस्त। अब मुझे नमक बेचना शुरू करना चाहिए और जल्दी ही व्यापारी नामक की 12  बोरियां तैयार की।

 बेचने के लिए उसने 6 बोरियां गधे की पीठ पर लदना शुरू किया , तब उसे एहसास हुआ कि बोरियां काफी भारी थी गधा चल भी नहीं पा रहा था।
 
व्यापारी बोला----- अरे अरे ! बोरिया ज्यादा वजन की है और गधा चल भी नही पा रहा है। मैं एक बोरी कम कर लेता हूं, उससे वजन कम हो जाएगा और गधे को कोई तकलीफ नही होगी।
 
इसलिए व्यापारी ने एक बोरी नमक उसके पीठ से उतार दिया , लेकिन फिर भी गधा आगे नहीं बढ़ रहा था। व्यापारी गधे की हालत समझता था लेकिन वह जानता था कि ---गधा आलसी भी है।

व्यापारी ने एक छड़ी निकाली और उसे मारा । गधा चिल्लाने लगा । व्यापारी बोलता है ----अरे अब चलो भी !  तुमने बहुत आराम कर लिया है ,अब हमें बाजार जाना है।

उस दिन व्यापारी की सभी नमक की बोरियां बाजार में बिक  गई।
व्यापारी ने कहा---- मेरा दोस्त सही कह रहा था बाजार में नमक की मांग बढ़ती ही जा रही है ।
hindi story new

व्यापारी ने रोज नमक बेचना शुरू किया। वह नमक की काफी बोरियां भरता और गधे पर लाद देता। गधा कभी पाच तो कभी छह बोरियां लेकर बाजार चलता।
 वैसे तो गधा कभी भी खुश नहीं होता, पर घर लौटने पर राहत की सांस लेता।

 सारी की सारी नमक की बोरियां खत्म हो चुकी थी , इसलिए गधे को थोड़ा आराम मिला। कुछ दिन बाद व्यापारी ने गधे पर फिर छह बोरियां लादी और चल पड़ा बाजार की ओर।
 
जब वह नदी के पास पहुंचा तो उन्होंने देखा- पानी कुछ ज्यादा ही था ।
  
व्यापारी ने कहा----- आज हम धीरे-धीरे आगे बढ़ेंगे । मैं यहां फिसल कर पानी में नहीं गिरना चाहता । वह आधी नदी पार कर चुके थे कि तभी गधा एक पत्थर से फिसल गया और धीरे-धीरे नीचे की तरफ गिरा ।

व्यापारी में जैसे तैसे गधे को ऊपर खींचा और उसे नदी पार कराई। गधा डर और सदमे में था पर उसे कुछ महसूस हुआ।
वह कहता है ----अरे वाह ! बोरिया अभी भी मेरे पीठ पर हैं, पर उसका वजन मुझे पता क्यों नहीं चल रहा है ? जरूर इस नदी में कोई जादुई शक्ति है ।अरे वाह !अरे वाह !

गधा यह नहीं जानता था कि नदी में कोई जादुई शक्ति नहीं थी बल्कि जब वह गिरा तो नदी में सारा नमक पिघल गया। इसलिए उसे हल्का महसूस हो रहा था ,क्योंकि अब बोरियों में नमक ही नहीं था।

व्यापारी बोलता है ----अरे इसमें तो कुछ भी नहीं है ,मेरी सारी मेहनत बेकार गई।  अब बाजार जा कर क्या करूंगा?

चलो अच्छा हुआ मेरे गधे को कुछ नहीं हुआ। चलो अब घर चलते हैं।
 गधा सोचता है ----क्या?  पीठ पर अब कोई वजन नहीं और काम से भी छुट्टी, अरे वाह! अरे वाह!

अपनी अधूरी सवारी करके गधा घर लौटा । उसके पास पूरा दिन था । उसने भरपेट खाया और सो गया। वह बहुत खुश था ।
 
अगले दिन व्यापारी ने फिर 6 बोरियां भरी और गधे पर लाद दिया और बाजार की ओर चल पड़ा ।

 गधा सोचता है-- कल तो बहुत मजा आया लेकिन आज मुझे फिर काम करना पड़ रहा है। मैं आज भी काम खत्म कर सकता हूं, पेट का वजन कम कर सकता हूं और वापस घर जा सकता हूं।

 कल की तरह उस पानी में जादुई शक्ति है , मुझे यकीन है कि मुझे जरूर छुट्टी मिलेगी। गधे की नियत से अनजान व्यापारी चल पड़ा बाजार की ओर ।
 वे नदी के पास पहुंचे, गधा कुछ कदम आगे बढ़ा जब तक व्यापारी उसे रोकता, वह नदी में गया और उसी जगह बैठ गया।
 
व्यापारी बोलता है ----यह तुम क्या कर रहे हो बेवकूफ ? खड़े हो जाओ।
 पर बहुत देर हो चुकी थी। गधे के ऊपर रखा हुआ नमक फिर से पिघल गया । अब कोई बोझा नहीं था। गधा बहुत खुश हुआ ।
 
गधा कहता है ---अरे वाह ! काम हो गया , कोई वजन नहीं कोई काम नहीं।
व्यापारी सोचता है--- आखिर यह हुआ कैसे? एक मिनट- कहीं गधा जानबूझकर तो पानी में नहीं बैठ गया क्या?

कितना आलसी जानवर है । मैं इसकी कितनी देखभाल करता हूं और यह मुझसे ऐसा बर्ताव करता है। इसे घर लेकर जाता हूं और सबक सिखाता हूं ।

गधे को लगा कि उसे कुछ अच्छी तरकीब सूझी है, काम से बचने की। लेकिन व्यापारी ने कुछ ठान लिया था।

अगले दिन सुबह व्यापारी ने आठ बोरिया, गधे की पीठ पर लाद दिया।
 गधा  कहता है-- अरे बाप रे  8 बोरिया । पर मुझे वजन का क्यों नहीं पता चल रहा है?  मालिक चाहे जितने बोरिया लाद दे, मैं कहां बाजार जाने वाला हूं ।अरे वाह!

hindi story new

 व्यापारी चुपचाप गधे को नदी के पास ले गया। गधा कहता है ---अब मेरा जादू दिखाने का समय आ गया है, नदी पार करते करते गधा फिर फिसल गया और उसी जगह पर फिर से बैठ गया ।

लेकिन इस बार व्यापारी ने गधे की कोई मदद नहीं की। जैसे ही गधा उठने की कोशिश की उसकी पीठ पर वजन बढ़ने लगा था । गधा कहता है--- अरे बाप रे! वजन इतना बढ़  क्यों रहा है। मेरे पीठ में दर्द हो रहा है।

 व्यापारी बहुत ही होशियार आदमी था । वह जानता था कि गधा फिर से वही तरकीब आपनाएगा ।  इस बार उसने नमक की बजाए कपास , बोरिया में भरी थी ।

 जैसे ही गधा पानी में बैठा, कपास पानी सोख लिया और वजन हो गया। व्यापारी हंसने लगा और बोला---- तुम्हें क्या लगा ? तुम मुझे हमेशा बेवकूफ बनाओगे ।

अब तुम्हें बाजार जाकर फिर घर लौटना होगा, वह भी यह आठ बोरिया लेकर।
 गधा कहता है ---अरे नहीं! यह क्या ?  वजन तो बहुत ज्यादा है।  मेरी पीठ!

 गधा समझ गया कि पानी में कोई जादू नहीं था। अब उसे 8 बोरियां बाजार लेकर फिर घर वापस लौटना था।

 उस दिन के बाद गधे ने कभी भी पानी में बैठने की हिम्मत नहीं की।

यह कहानी कैसी लगी , comment करके जरूर बतायें।
इसी तरह की और भी नई नई हिंदी कहानियों (hindi story new) को पढ़ने के लिए इस वेबसाइट पर ईमेल  subscribe कर ले। धन्यवाद!

*

एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने

Billboard Ad