चतुर बंदर (monkeys story in hindi)

आज आप इस नई हिंदी नैतिक कहानी (moral stories in hindi) में एक चतुर बंदर को ,एक साप से अपनी जान बचाते हुए पढ़ेंगे।


new monkeys story in hindi
new monkeys story in hindi
इसे भी पढ़ें: 1-प्रिंसेस सिंडरेला
                  2-आलसी गधा की कहानी

चालक बंदर की कहानी(monkeys story in hindi)


बहुत समय पहले की बात है। जंगल में एक बंदर रहता था। बंदर बहुत चालाक था। जंगल में कई जानवरों की मदद करने के लिए बंदर हमेशा तैयार रहता था।
 बंदर ने सबकी अच्छी मदद की थी। उसी जंगल में एक सांप भी रहता था। वह बंदर के करीब ही रहता था ।

वह हमेशा बंदर को खाना चाहता था लेकिन बंदर हर बार बच जाता था ।
सांप ने सोचा ---- यह बंदर बहुत चालाक है, उसका दिमाग बहुत स्वादिष्ट होगा। मुझे इसे जरूर खाना चाहिए ।

मैं इसका इंतजार करूंगा। जैसे जैसे दिन बीतते गए , एक दिन बंदर को बहुत भूख  लगी, इसलिए वह बहुत सारे फल लेकर आया और पेड़ के नीचे बैठ कर उसे खाने लगा।

 बंदर ने सारे फल खा लिए और पेट एक दम भर गया। पर वह चल नहीं सकता था। उसने सोचा--- आज बहुत सारे फल खाए हैं। मेरा पेट भर गया है ।

बंदर बना सांप का भोजन (monkeys story)


new monkeys story in hindi
snake story

अभी पेड़ पर नहीं चढ़ सकता हूं । कुछ देर मै यही नीचे सो जाऊंगा, उसके बाद फिर पेड़ पर चढ़ा जाऊंगा।
 बंदर वही सो गया ,इसी बीच साप उस रास्ते से जा रहा था। उसने बंदर को देखा , उसने सोचा ---आज तो मेरा अच्छा दिन है । यह चतुर बंदर आज मेरा भोजन बन सकता है।

 मैं यह मौका नहीं छोडूंगा । ऐसा कह कर वह बंदर के पास गया । बंदर को कसकर गोल कर दिया।  बंदर ने उठा और देखा कि उसके चारों ओर सांप है ।

 पहले तो सांप को देखकर बंदर घबरा गया लेकिन फिर उसने जल्दी से एक योजना के बारे में सोचा।
  बंदर ने सांप को कहा---- मेरे दोस्त मैंने सुना है कि तुम मुझे खाना चाहते हो लेकिन इससे पहले कि तुम मुझे खाओ, मैं तुमसे कुछ पूछना चाहता हूं ।

सांप ने कहा ---अब मैं तुम्हें नहीं छोडूंगा ,तुम्हारी आखिरी इच्छा क्या है बोल दो ।

  बंदर ने कहा------ मैं हमेशा से सोचता था मेरी तुलना में तुम्हारी पूछ बहुत ही छोटी है ,देखो तुम्हारे पास तो बहुत ही छोटी पूछ है और मेरे पास बहुत ही बड़ी पूछ है।

 सांप ने कहा------ नहीं नहीं, मेरे पास जंगल में किसी भी जानवर से भी बड़ी पूछ है । तुम मेरी पूछ को माप सकते हो।
  बंदर ने कहा ----मैं कैसे माप सकता हूं ? तुम मेरे चारों ओर चक्कर जो लगा रखे हो । तुमने मुझे घेरा है, तुम मुझे छोड़ दो तो मैं तुम्हारी पूछ माप सकता हूं ।

सांप की मूर्खता (monkeys story in hindi)


new monkeys story in hindi
new monkeys story in hindi

फिर सांप ने बंदर को छोड़ दिया और अपनी पूछ फैलाने के लिए कुछ दूर चला गया और बंदर मुक्त हो गया ।
और जल्दी से पेड़ पर चढ़ गया । बंदर को पेड़ पर चढ़ता देख , साप बहुत नाराज हो गया।

बंदर ने सांप को देखा और कहा ---तुम क्या मूर्ख हो तुमने अपनी मूर्खता से अपना भोजन खो दिया है। मैंने अपनी जान बचाई है।
  मैं अब इस जगह पर कभी नहीं आऊंगा ,  यह कहते हुए बंदर पेड़ पर कुदते हुए वहां से चला गया और साप  वापस अपने घर गया।
 
यह कहानी आपको कैसी लगी ?
 
इससे हम को यह शिक्षा मिलती है कि जब हम मुसीबत में हो तो हमें घबराना नहीं चाहिए , मन शांत रखकर निर्णय लेना चाहिए ।
   यह बंदर की कहानी (monkeys story in hindi) आपको कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएं। इसी तरह की नई नई हिंदी कहानियों (hindi kahaniyan new) को पढ़ने के लिए इस वेबसाइट पर email  को subscribe कर ले।
   कहानी पढ़ने के लिए धन्यवाद! पढ़ते रहे , खुश रहे।

read also

टिप्पणियां